जयराम का आरोप- सीएम कार्यालय से तय हो रही टेंडर की शर्तें

57

शिमला, 9 जुलाई। नेता प्रतिपक्ष ने शिमला से बयान जारी कर कहा कि प्रदेश सरकार भ्रष्टाचार की सारी सीमाएं लांघ चुकी है। भ्रष्टाचार के मामले में सीधे-सीधे मुख्यमंत्री का नाम आना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण हैं। इन घोटालों में मुख्यमंत्री के अत्यंत करीबी लोगों के नाम सामने आना और भी निराशाजनक है। मुख्यमंत्री कार्यालय में ही बैठकर टेंडर की शर्तें तय की जा रही है। उन्हीं के इशारे पर लोगों को काम आवंटित किया जा रहा है। अपने लोगों को लाभ देने के लिए घोटाले किए जा रहे हैं। 175 करोड़ का टेंडर 245 करोड़ में दिया जा रहा है। हैरत की बात यह है कि जिस समय प्रदेश में चुनाव चल रहे हैं उसी समय यह घोटाले भी हो रहे हैं। सरकार को किसी प्रकार का भय नहीं हैं। प्रदेश में माइनिंग घोटाले में मुख्यमंत्री के बेहद क़रीबियों के नाम सामने आ रहे हैं। आपदा के समय भी सीएम के बेहद करीबी लोगों के क्रशर चल रहे थे बाक़ी के क्रशर को सरकार ने बंद करवा रखा था। यही नहीं सरकार बनने के दो महीने के भीतर ही सरकार ने माइनिंग पॉलिसी में परिवर्तन करके अपने क़रीबियों और मित्रों को लाभ पहुंचाया।
जिस तरह से सुक्खू सरकार के भ्रष्टाचार सामने आ रहे हैं, वह एकदम चौंकाने वाले हैं। प्रदेश में पहले ऐसी सरकार किसी ने नहीं देखी। जहां विकास शून्य और घोटाला चरम पर है। दिन ब दिन प्रदेश को क़र्ज़ के बोझ तले दबाया जा रहा है। युवाओं, किसानों, बेरोज़गारों, बाग़वानों सभी के साथ ठगी कर रही है। हर वर्ग सरकार से त्रस्त है और सड़कों पर है। इसी कारण मुख्यमंत्री समेत दस मंत्री अपने हल्के में चुनाव हार गए। प्रदेश के लोगों द्वारा इस भ्रष्टाचारी सरकार को नकार दिया गया है। आने वाले चुनावों में कांग्रेस का सूपड़ा साफ़ होगा। भाजपा तीनों सीटें जीतेगी और कांग्रेस में सत्ता परिर्वतन भी होगा।
‘चुनाव हार गए हैं मुख्यमंत्री‘
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सरकार द्वारा उपचुनाव में भाजपा के प्रत्याशी और समर्थकों को जिस तरह से सत्ता के बल पर प्रताड़ित कर रहे हैं उससे यह साफ़ हो गया है कि उन्होंने चुनाव में अपनी हार मान ली है और वह हार की खीझ निकाल रहे हैं क्योंकि उन्हें भी पता है कि रिजल्ट आने के बाद वह मुख्यमंत्री नहीं रहेंगे और अपनी हार का बदला लेने के लिए सत्ता का दुरुपयोग नहीं कर पाएंगे, इसलिए वह चुनाव के पहले ही अपना हिसाब बराबर करने में जुटे हैं। जयराम ठाकुर ने कहा कि आज तक इस तरह से सत्ता का दुरुपयोग नहीं हुआ है। सरकार ने तानाशाही की सारी सीमाएं लांघ दी है। प्रदेश के लोग इस तानाशाही का डटकर जवाब देंगे और देहरा से होशियार सिंह समेत सभी प्रत्याशी रिकॉर्ड वोटों से जीतेंगे।
मणिपुर की परिस्थिति के लिए कांग्रेस ज़िम्मेदार, अति उत्साहित हैं राहुल गांधी
जयराम ठाकुर ने कहा कि नार्थ ईस्ट में लंबे समय से उथल-पुथल चल रही थी, नरेंद्र मोदी के प्रयासों से वहां शांति बहाली हुई थी। राहुल गांधी इस समय अतिउत्साहित हैं। मणिपुर की जो भी परिस्थितियां हैं उसके लिए कांग्रेस ज़िम्मेदार है। केंद्र सरकार और राज्य सरकार शांति बहाली के लिए काम कर रही है। मणिपुर में शांति बहाल हो रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here