सावन मास 2021: शिव पूजा से होगी समस्त मनोकामनाओं की पूर्ति

1784

औदायिक योग (धनिष्ठा नक्षत्र) प्रदान करेगा आर्थिक लाभ और दरिद्रता का नाश

पहला सोमवारः 26 जुलाई को श्रावण मास का पहला सोमवार है

सनातन धर्म में श्रावण मास को पवित्र माह के रूप में माना जाता है इस माह से पूरे वर्ष व्रत त्यौहार का प्रारंभ हो जाता है। इस मास में भगवान महादेव की पूजा साधना शास्त्र अनुसार करने से समस्त मनोकामना की पूर्ति होती है पर पूजा आराधना कैसे करें। इसका ज्ञान होना आवश्यक है। इस माह का इंतजार जहां गृहस्थ को रहता है वहीं इसका इंतजार बेसब्री से साधक वर्ग, संन्यासी या अध्यात्म मे रूचि रखने वालों को रहता है।
पूजा या साधना में अभीष्ट फल की प्राप्ति के लिए जीवन में गुरू अवश्य बना लेना चाहिए, तभी इन प्रयोगों में सफलता की प्राप्ति होती है। जिन्हें गुरू दीक्षा लेना हो वो सम्पर्क करे सकते हैं और इन प्रयोगों को कर लाभ प्राप्ति कर सकते है।

इस वर्ष 2021 में श्रावण मास 25 जुलाई से प्रारंभ होकर 22 अगस्त 2021 तक रहेगा। इस मास 4 सोमवार पडेंगे जिसमें शिव जी की पूजा आरधना की जाती है, परन्तु इसे पूरे माह प्रतिदिन भगवान शिव की पूजा आराधना करनी चाहिए जिससे उसका लाभ मिलता है।

पहला सोमवार 26 जुलाई 2021 को कैसे करें:

1. प्रातःकाल उठकर स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण करना चाहिए यदि संभव हो तो बिना सिले वस्त्र शरीर में धारण कर शिवलिंग में दूध मिश्रित जल से जलाभिषेक करें।

2. शिवलिगं में दूध, फल, धतूरा, बिल्वपत्र, नारियल मंत्र: ओम नमः शिवाय का जप करते हुए चढायें और माता पार्वती जी को सोलह श्रृंगार की चीजें चढायें, घी की दीपक जलाकर अगरबती जलायें।
3. ओम नमः शिवाय मंत्र का जप 108 बार (1 माला) या 21 माला जप कर शिव चालीसा का पाठ करें और आरती कर प्रसाद वितरण करें।
4. सुबह और सायं भगवान शिव जी की पूजा करें और सायं को रूद्राष्टक का पाठ करें और शिव तांडव का पाठ करें।
5. संभव हो तो निराहार रह कर व्रत करें।

-स्वामी श्रेयानन्द महाराज (सनातन साधक परिवार) मो. 9752626564
# Swami Shreyanand Maharahaj Mob. 9752626564

ज्वालामुखी मंदिर में कोविड प्रोटोकॉल की अनुपालना सुनिश्चित बनाने के निर्देश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here