भाजपाः कारगिल हीरो ने नामाकंन भरा, सेरी मंच से ठोकी ताल

905
photo source: social media

मंडी, 7 अक्टूबर। मंडी संसदीय उपचुनाव के लिए भाजपा प्रत्याशी और कारगिल युद्ध के हीरो ब्रिगेडियर खुशाल सिंह ठाकुर ने आज अपना नामांकन दाखिल कर दिया। नामाकंन दाखिल करते समय मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप, जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर समेत अन्‍य मंत्री और विधायक व पदाधिकारियों मौजूद रहे।
नामांकन के बाद मंडी के सेरी मंच से एक जनसभा आयोजित की गई। इस दौरान भाजपा प्रत्याशी ठाकुर ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार और प्रदेश की जयराम सरकार ने जो विकास कार्य किए हैं, हम उसी के दम पर चुनाव जीतेंगे। खुशाल ठाकुर ने कहा कि वह फौजी हैं, राजनीति की उतनी समझ नहीं, मगर सेरी मंच उनके लिए नया नहीं है। वर्ष 1970 से वो इससे जुड़े हुए हैं। उन्‍होंने कहा कि सेना में जाने से पहले जब वो पटवारी थे तो इस मंच के सामने ही उनका दफ्तर हुआ करता था। मंडी और कुल्लू में उनका बचपन बीता है, पढ़ाई-लिखाई हुई है। पूरा मंडी संसदीय क्षेत्र उन्‍होंने घूमा है और यहां के लोगों से संपर्क है और उनकी जरूरतें और अपेक्षाओं से भली भांति परिचत हैं।
खुशाल ने कहा कि जो एक बार फौजी रहता है, वो हमेशा फौजी रहता है। पूरी ईमानदारी के साथ अपनी जिम्मेदारी को निभाने की कोशिश करेंगे। यहां की जनता की आवाज को केंद्र और प्रदेश में रखने की कोशिश करेंगे।
जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने एक सैनिक को जिम्मेदारी सौंपी है। जैसे उन्होंने कारगिल युद्ध जीता, वैसे ही अब उन्हें मंडी जीतने की जम्मेदारी दी गई है। जब एक सैनिक लड़ाई लड़ता है तो उसका लक्ष्य विजय हासिल करना होता है। हम भी सेना के रूप में आपका साथ देंगे। देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने का जज्बा रखने वाले अब देश के विकास के लिए भी अपना योगदान देंगे।
जय राम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश के हर विधानसभा क्षेत्र का विकास हुआ है। एक भी विधानसभा क्षेत्र ऐसा नहीं है जहां पर करोड़ों की विकास योजनाएं न चल रही हों। मंडी में ढेरों काम अब तक हो चुके हैं। ये मंडी हमारी थी, हमारी है और हमारी ही रहेगी। इस बात का संदेश देने का वक्त है। 2022 में भी मंडी वाले भाजपा की सरकार बना कर देंगे। उन्‍होंने कहा कि हर पांच साल बाद हिमाचल में सरकार बदलती रही है, लेकिन अब परिस्थितियां ही बदल चुकी हैं। अभी हमें ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर को जीताना है और अगला लक्ष्य 2022 का होगा।
मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान विपक्षी नेताओं को संयमित भाषा बरतने की सलाह भी दी। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों से काफी विचित्र बातें हिमाचल में देखने को मिल रही हैं। कई तरह के बयान आ रहे हैं। कुछ लोग कर्मचारियों के ऊपर अपना गुस्सा उतार रहे हैं। पहली बार सुना कि पटक-पटक कर मारेंगे। सब्र रखकर बोलना चाहिए। यही हमारी संस्कृति है, यही हमारे संस्कार हैं।

भाजपाः जुब्‍बल में भी बगावत के आसार, समर्थकों के सामने बरागटा के आंसू छलके

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here