विकास परियोजनाएं समयबद्ध पूर्ण की जाएं, गुणवत्‍ता का रखें ध्‍यान: मुख्यमंत्री

594

शिमला, 28 मई। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने अधिकारियों को विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं को समयबद्ध पूरा करने और उन जल्‍द पूर्ण होने जा रही परियोजनाओं पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए हैं। वह आज यहां मंडी जिले के सिराज विधानसभा क्षेत्र की प्रगति और विकासात्मक कार्यों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारी उनके द्वारा की गई घोषणाओं को पूरा करने के लिए विशेष प्राथमिकता सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि सभी विकासात्मक कार्यों में गुणवत्तापूर्ण निर्माण सुनिश्चित किया जाए और गुणवत्ता से समझौता करने वाले ठेकेदारों व अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि विधानसभा क्षेत्र के अधिकांश हिस्सों में मौसम को ध्यान में रखते हुए कार्य में तेजी लानी चाहिए ताकि परियोजनाओं को निर्धारित अवधि के भीतर पूरा किया जा सके।

ठाकुर ने कहा कि अधिकारियों को विशेष रूप से प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत सड़कों के निर्माण के लिए भूमि से संबंधित मामलों का समाधान करना चाहिए ताकि अधिक से अधिक गांवों को सड़कों से जोड़ा जा सके। उन्होंने कहा कि विधानसभा क्षेत्र के कुल 247 गांवों में से 205 गांवों को सड़कों से जोड़ दिया गया है। उन्होंने कहा कि नाबार्ड, सीआरएफ और अन्य बाह्य सहायता प्राप्त परियोजनाओं के अंतर्गत कार्य शीघ्र पूरा किया जाना चाहिए ताकि लोग लाभान्वित हो सकें। मुख्यमंत्री ने कहा कि विभिन्न भवनों को ऊर्जा की प्रभावी बचत के साथ-साथ स्थानीय वास्तुकला के अनुसार डिजाइन किया जाए। उन्होंने कहा कि निर्मित होने वाले भवनों में विस्तार की संभावना अवश्य होनी चाहिए।

कोरोनाः 31 से सभी दुकानें हफ्ते में 5 दिन सुबह 9 से दोपहर 2 बजे तक खुलेंगी

मुख्यमंत्री ने सिराज विधानसभा क्षेत्र में जलशक्ति विभाग द्वारा विकास कार्यों की प्रगति की समीक्षा करते हुए कहा कि विधानसभा क्षेत्र में जल जीवन मिशन के अतंर्गत 19, नाबार्ड के तहत आठ परियोजनाएं, छह अनुसूचित जाति उपयोजना और चार एडीबी परियोजनाओं सहित 37 जलापूर्ति परियोजनाएं कार्यान्वित की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि इनमें से 13.71 करोड़ रुपये की आठ योजनाओं के कार्य पूरे हो चुके हैं जो लोकार्पण के लिए तैयार हैं।

ठाकुर ने कहा कि जंजैहली क्षेत्र और ग्राम पंचायत तांदी, सरोआ में विभिन्न जलापूर्ति योजनाओं के सुधारीकरण के कार्य पूरे होने वाले हैं। उन्होंने कहा कि जलशक्ति विभाग के अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि जल जीवन मिशन के अंतर्गत शेष परियोजनाओं का कार्य निर्धारित अवधि में पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के लोगों के लिए बेहतर जलापूर्ति सुनिश्चित करने के लिए नाबार्ड के अंतर्गत 14.83 करोड़ रुपये का लागत की आठ परियोजनाएं कार्यान्वित की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति उपयोजना के अतंर्गत 3.70 करोड़ रुपये लागत की छह परियोजनाएं और एडबी जलापूर्ति परियोजनाओं के अंतर्गत 35.72 करोड़ रुपये की चार परियोजनाएं कियान्वित की जा रही हैं।

मुख्यमंत्री ने विकासात्मक परियोजनाओं को समय पर पूर्ण करने पर संतोष व्यक्त करते हुए एशियन विकास बैंक द्वारा वित्तपोषित जल आपूर्ति परियोजनाओं को शीघ्र पूरा करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि पर्वतीय क्षेत्र होने के कारण यहां किसानों को सिंचाई सुविधाएं प्रदान करने की बहुत सीमित सम्भावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि इस विधानसभा क्षेत्र में 12.50 करोड़ रुपये लागत की 12 सिंचाई परियोजनाएं कार्यान्वित की जा रही हैं, जिनमें से 6 नाबार्ड के अंतर्गत हैं। उन्होंने कहा कि इन परियोजनाओं में से 3.40 करोड़ रुपये लागत की पांच सिंचाई परियोजनाओं का कार्य पूर्ण हो चुका है, जिनका लोकार्पण शीघ्र ही किया जाएगा।

ठाकुर ने अधिकारियों को थुनाग और जंजैहली कस्बों के लिए सीवरेज योजना को समय पर पूरा करने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा कि जंजैहली में सीवरेज योजना के अन्तर्गत 6.80 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे, जिसमें चार ग्राम पंचायतें ढीमकटारू, जंजैहली, तुंगधार और बंग शामिल हैं। उन्होंने कहा कि 5.50 करोड़ रुपये की थुनाग सीवरेज योजना से थुनाग और बेहल पंचायतों के लोगों को सुविधा मिलेगी।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से क्षेत्र में 50.89 करोड़ रुपये लागत की प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का प्रभावी कार्यान्वयन सुनिश्चित करने के लिए भी कहा ताकि किसान फसल विविधीकरण को अपना कर अपनी आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ कर सकें। उन्होंने अधिकारियों को क्षेत्र में बाढ़ नियंत्रण कार्यों को समयबद्ध पूरा करने के भी निर्देश दिए। जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने मुख्यमंत्री को आश्वासन दिया कि जल शक्ति विभाग की सभी परियोजनाओं को निर्धारित समयावधि में पूरा किया जाएगा।

प्रधान सचिव लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) सुभाशीष पांडा, सचिव जल शक्ति विकास लाबरू, विशेष सचिव लोक निर्माण विभाग अरिंदम चौधरी, इंजीनियर-इन-चीफ लोक निर्माण विभाग संजय शर्मा, इंजीनियर-इन-चीफ जल शक्ति विभाग नवीन पुरी सहित अन्य अधिकारी भी बैठक में उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here