शिखर पर रहकर अपनी जड़ों से जुड़े रहने की सीख

1379

– पिता जनार्दन बलूनी के आदर्शों को जीवन में उतार रहे बलूनी बंधु
– शहीदों के बच्चों के बाद अब कोरोना से अनाथ बच्चों को देंगे फ्री शिक्षा-कोचिंग

सूबेदार जर्नादन बलूनी ने लगभग तीन दशक तक सेना में रहकर देशसेवा की। जिंदगी की एक जंग उन्होंने पिछले कुछ दिनों में लड़ी है। उनकी हालात अब खतरे से बाहर हैं। उनके बेटे डा. नवीन बलूनी और विपिन बलूनी ने तय किया है कि वो कोरोना की जंग में अनाथ हुए बच्चों की शिक्षा का बीड़ा उठाएंगे। अनाथ बच्चों को पहली से 12वीं कक्षा की शिक्षा बलूनी ग्रुप नि:शुल्क देगा। साथ ही यदि बच्चा मेडिकल या इंजीनियरिंग करना चाहता है तो उसे फ्री कोचिंग दी जाएगी।

लोकमंगल के संचारकर्ता हैं नारद

पिता के दिए जीवन मूल्यों की सीख का परिणाम है कि बलूनी बंधु आज व्यवसाय के शिखर पर रहते हुए भी अपनी जड़ों से जुड़े हुए हैं। बलूनी बंधु उत्तर भारत में अग्रणी मेडिकल और इंजीनियरिंग कोचिंग सेंटर बलूनी क्लासेस के संचालन के साथ ही बलूनी पब्लिक स्कूल भी संचालित करते हैं। इसकी देहरादून, कोटद्वार, मथुरा, आगरा समेत कई शाखाएं हैं। बलूनी ग्रुप पिछले साल से ही कोरोना वारियर्स के बच्चों को फ्री कोचिंग दे रहा है। साथ ही देश रक्षा में शहीद हुए सैनिकों के बच्चों को भी नि:शुल्क शिक्षा देता है। बलूनी ग्रुप कोरोना महामारी के इस दौर में जरूरतमंदों को राशन, दवाएं और अन्य जरूरी सामान भी उपलब्ध करा रहा है। नि:संदेह, बिजनेस सब करते हैं, लेकिन व्यापार करते हुए जनहित तो कम ही लोग करते हैं। बलूनी बंधुओं की इस पहल को सैल्यूट।

[वरिष्‍ठ पत्रकार गुणानंद जखमोला की फेसबुक वॉल से साभार]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here