भड़के आईएमए ने की मोदी को पत्र लिख रामदेव पर देशद्रोह का केस चलाने की मांग

1081
file photo source: social media

नई दिल्ली, 26 मई। एलोपैथी दवाइयो पर दिए बाबा रामदेव के बयान पर भड़की इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर योग गुरु के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग की है। आईएमए ने बाबा रामदेव के कोरोना वैक्सीनेशन पर गलत सूचना फैलाने को रोके जाने की भी मांग की है।

एक वायरल वीडियो में रामदेव ने एलोपैथी को ‘मूर्खतापूर्ण विज्ञान’ बताया था। उन्‍होंने कहा था एलोपैथी दवाएं लेने के बाद भी लाखों की संख्या में मरीजों की मौत हुई है। रेमडेसिविर, फेवीफ्लू और ऐसी अन्य दवाएं मरीजों का इलाज करने में विफल रही हैं। रामदेव ने यहां तक कहा कि अगर एलोपैथी इतनी ही अच्छी है तो डॉक्टरों को बीमार नहीं होना चाहिए। डॉक्‍टरों के विरोध के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रामदेव के बयान को बेहद दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया था। उन्‍होंने बाबा से इसे वापस लेने को कहा था। इसके बाद रामदेव ने बयान वापस ले लिया था। साथ ही आईएमए से 25 सवालों के जवाब मांगे थे।

आईएमए ने मोदी को लिखे पत्र कहा कि योग गुरु ने अपने एक वीडियो में दावा किया है कि कोरोना वैक्सीन की दो डोज के बाद भी 1 हजार डॉक्‍टरों और लाखों लोगों की मौत हुई है। मोदी के खिलाफ तत्काल देशद्रोह के तहत कार्रवाई होनी चाहिए।

एलोपैथी को लेकर बाबा रामदेव के बयान से भड़के आईएमए की उत्‍तराखंड यूनिट ने योग गुरु को 1 हजार करोड़ रुपये के मानहानि का नोटिस भी भेजा है। रामदेव से इस नोटिस में 15 दिन के भीतर माफी मांगने को कहा गया और अपने बयान को सोशल मीडिया से नहीं हटाने पर मानहानि का मुकदमा दर्ज करने की चेतावनी दी है।

इस बीच रामदेव का एक और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में रामदेव कहते नजर आ रहे हैं कि किसी के बाप में दम नहीं जो उन्‍हें गिरफ्तार कर सके। रामदेव ने आरोप लगाया कि उन्हें बदनाम करने के लिए सोशल मीडिया पर कई तरह के ट्रेंड चलाए जा रहे हैं। इस वीडियो के जारी होने के समय की जानकारी नहीं मिल पाई है।

कोरोनाः 90 वर्षीय वृद्धा समेत 3067 ने जीती जंग, 61 हारे, 56 बच्चे समेत 1965 संक्रमित

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here