धर्मनिरपेक्षता की जगह संविधान में हो राष्ट्रवाद

806

नई दिल्ली, 17 मई। अखिल भारतीय सवर्ण मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजीव कुमार सिंह ने कहा कि देश में आज धर्मनिरपेक्षता के नाम पर अराजकता है। विपक्ष दल इस धर्मनिरपेक्षता के नाम पर केवल और केवल तुष्टिकरण की राजनीति करता है और देश को तोड़ने वाले काम करता है। ऐसे में संविधान में आज धर्मनिरपेक्ष शब्द की जगह नहीं रह गई है। इसकी जगह अब राष्ट्रवाद को जोड़ा जाना चाहिए।

कोरोना काल में शरीर को स्वस्थ्य रखने के लिए करें योग-आसन और प्रणायाम

संजीव सिंह ने कहा कि वामपंथी दल तो पहले से ही देश की विघटनकारी शक्तियों का समर्थन करते हैं। परंतु भारत की सबसे पुरानी कांग्रेस पार्टी भी अब इस रास्ते में लंबे समय से चल रही है और इनका साथ दे रहे हैं सपा, बसपा, तृणमूल राजनीतिक दल। ये सभी अपनी तुच्छ राजनीति और वोट बैंक के लिए देश को धर्म के नाम पर बांटते हैं और एक वर्ग का तुष्टिकरण करते हैं। ये देश के लिए खतरनाक हैं। इसलिए समय की आवश्यकता को देखते हुए आज देश के संविधान में से धर्मनिरपेक्षता को हटाकर राष्ट्रवाद जोडा जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here