ममता राज में खत्म हो रही विपक्ष को सम्मान देने की लोकतांत्रिक प्रथा

642

नई दिल्ली, 21 मई। अखिल भारतीय सवर्ण मोर्चा के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता रामकिशोर चौधरी ने आज कहा कि भारतीय राजनीति में विचारधारा एवं लोकतांत्रिक परंपरा के तहत विपक्षी दलों को सम्मान देने की प्रथा अब खत्म सी हो गई है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण पश्चिम बंगाल है, जहां पर विपक्ष पर लगातार सत्ता पक्ष द्वारा हमले किए जा रहे हैं। चौधरी ने कहा कि आज तुच्छ स्वार्थों के चलते कांग्रेस, वामपंथी, तृणमूल कांग्रेस जैसे दल लगातार देश के लोकतंत्र का चीरहरण कर रहे हैं।

कोरोनाः केजरीवाल ने अध्यापक के परिजनों को सौंपा 1 करोड़ का चेक, विधवा को देंगे नौकरी

वरिष्ठ अधिवक्ता रामकिशोर ने कहा कि ममता बनर्जी के तीसरे बार सत्ता संभालते ही वहां के प्रमुख दल भाजपा के कार्यकर्ताओं पर जानलेवा हमले तृणमूल के चरित्र को उजागर करते हैं। वहां पर विपक्ष पर हमले हो रहे हैं, दुष्कर्म किया जा रहा है, हर जगह अराजकता का माहौल है। सीबीआई द्वारा सत्ता पक्ष के नेताओं को नारद स्टिंग पर गिरफ्तार किए जाने पर तृणमूल कार्यकर्ताओं और उसकी प्रमुख ममता बनर्जी का रवैया पूरी तरह से अलोकतांत्रिक था।

उधर, अखिल भारतीय सवर्ण युवा मोर्चा के राष्ट्रीय महासचिव एवं दिल्ली प्रदेश प्रभारी अमर कुमार सिंह ने कहा कि आज कांग्रेस और वामपंथी ना केवल देश को तोड़ने का प्रयास कर रहे हैं, बल्कि विश्व में देश की छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण टूल किट कांड है। सच सामने आने के बाद बौखालाई कांग्रेस ने अपने शासित प्रदेशों में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, प्रवक्ता संबित पात्रा और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी समेत कई नेताओं के खिलाफ कई झूठे मुकदमे दर्ज करवा दिए। कांग्रेस व वामपंथियों का यह खेल देश के लोकतंत्र को खत्म कर देगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here