जीवन को जो सजाते हैं-वहीं हमारे शिक्षक कहलाते हैंः हितेश

1217
  • राष्ट्रीय शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एफआईएमटी द्वारा ऑनलाइन कार्यक्रम आयोजित

नई दिल्ली, 4 सितंबर। भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की 134वीं जयंती यानि राष्ट्रीय शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एफआईएमटी के विद्यार्थियों ने अपने गुरुओं को समर्पित ऑनलाइन कार्यक्रम आयोजित किया।
कार्यक्रम की संयोजक-असिस्टेंट प्रोफेसर रेनु के अनुसार कॉलेज के विद्यार्थियों ने शिक्षकों के प्रति सम्मान व्यक्त करते हुए मानसी एवं चार्ली द्वारा फैकल्टी पर शानदार प्रस्तुति के अलावा साक्षी, जाह्नवी, आयुषि, सुजाता, अक्षिता, स्नेहा सिंह, ऋतिका ने कविताएं, विचार, नृत्य पेश किए। अंशिका ने कॉलेज फैकल्टी के रोचक स्केच प्रस्तुत करते हुए क्रिएटिव एक्टिविटी की। वहीं, हितेश ने वेबिनार में उपस्थित शिक्षकों एवं विद्यार्थियों को अपनी कविता “जीवन को जो सजाते हैं-वही हमारे शिक्षक कहलाते हैं” गाते हुए खूब तालियां बटौरी। कार्यक्रम में कॉलेज की फैकल्टी पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में कार्यरत असिस्टेंट प्रोफेसर एस.एस.डोगरा ने भी “वही तो शिक्षक कहलाता है” शीर्षक वाली एक प्रेरक कविता सुनाई। कार्यक्रम का संचालन अंशिका एवं अक्षिता ने बेहतरीन ढंग से किया।

डीटीए ने विवि में रिक्त पदों पर शिक्षा मंत्री प्रधान के वक्तव्य का स्वागत किया

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here