संचार क्रांति से मीडिया क्षेत्र में बेहतर करने के अपार अवसर पैदा हुएः अरविंद सिंह

825

नई दिल्ली, 28 मई। वरिष्ठ पत्रकार-लेखक अरविंद कुमार सिंह ने कहा कि संचार क्रांति आने से मीडिया क्षेत्र में बेहतर करने के अपार अवसर पैदा हुए हैं। उन्होंने कहा कि अच्छा कंटेंट निर्माण करने के लिए शिक्षकों, विषय-विशेषज्ञों-जानकारों के संपर्क में रहना जरूरी है।

एफआईएमटी कॉलेज के पत्रकारिता विभाग द्वारा “टी.वी. समाचार प्रस्तुति की बदलती गतिशीलता” विषय पर बृहस्पतिवार को आयोजित वेबिनार में मुख्यवक्ता एवं राज्य सभा टीवी के संसदीय मामले के पूर्व संपादक अरविंद कुमार सिंह ने लगभग साठ मीडिया विद्यार्थियों से सीधा संवाद किया। इस ऑनलाइन परिचर्चा में अरविंद ने अपने पत्रकारिता की शुरुआती दिनों में प्रिंट मीडिया संग अस्सी के दशक की कठिनाइयों तथा आज की आधुनिक संचार व्यवस्था पर तुलनात्मक अनुभव साझा किए। अरविंद ने कहा कि संचार क्रांति आने से मीडिया का विकास एवं विस्तार हुआ है और आज मोबाइल-स्मार्ट फोन संसधानों, सोशल मीडिया-माध्यम से पत्रकारिता क्षेत्र में बेहतर करने के अपार अवसर पैदा हो गए हैं। परंतु अच्छा कंटेंट निर्माण करने की दिशा में मेहनत करना बहुत जरूरी है। इसके लिए पढना-लिखना-शोध करना तथा विषय की जानकारी बहुत महत्वपूर्ण होती है। उसके लिए गूगल से भी अधिक अपने शिक्षकों, विषय-विशेषज्ञों-जानकारों के संपर्क में रहना जैसे टिप्स सुझाए।

कठिन कोरोना काल में थोड़ा डिजिटल हो जाएं!

फेसबुक से अधिक यूट्यूब को ताकतवर बताते हुए अरविंद ने कहा कि कंटेंट में ताकत हो तो करोडो लोगों तक पहुंचा जा सकता है। उन्होंने कहा कि आने वाला समय स्पेशलाइजेशन (विषय विशेषज्ञ) का होने वाला है उसके लिए ग्रामीण पत्रकारिता तथा आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस पर ज्यादा से ज्यादा शोथ एवं रिपोर्ट बनाने की आवश्यकता है। मीडिया क्षेत्र में आने पर अनेक तरह की चुनौतियों पर भी चर्चा करते हुए अरविंद ने कहा कि किताबी ज्ञान-पाठ्यक्रम से ताकत मिलती है, लेकिन इसके लिए अपने एडिटर-सीनियर मीडिया संस्था के मुताबिक आपको साबित करना पड़ता है। उसके लिए यूट्यूब चौनल पर अभी से अपने कंटेंट विकसित करने का सुझाव दिया, जो भविष्य में अच्छी नौकरी दिलाने में सहायक हो सकता है। इस ऑनलाइन परिचर्चा में मुख्यवक्ता ने विधार्थियों देव, आशीष, गर्वित, गीतिका चड्ढा, पारुल शर्मा के जिज्ञासु प्रश्नों का भी तर्कसंगत जवाब देते हुए उज्जवल भविष्य की कामना की। अरविंद ने अपने राज्य सभा टीवी के लिए नेल्सन मंडेला के निधन पर संसद स्थगित होने पर किस तरह डॉ. कर्ण सिंह से दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति मंडेला के व्यक्तित्व पर टिप्पणी ली तथा देश की विभिन्न विधानसभाओं पर अरविंद द्वारा खास न्यूज रिपोर्ट तथा गांव कनेक्शन पर अपने नियमित कालम खेत खलियान का जिक्र करते हुए विधार्थियों को इस क्षेत्र में बेहतर भविष्य गढ़ने के लिए प्रेरित किया।

वेबिनार का शुभारंभ कॉलेज की निदेशक प्रोफेसर डॉ. सरोज व्यास ने विधिवत रूप से मुख्य वक्ता का स्वागत करते हुए किया। वेबिनार का आयोजन कॉलेज की पत्रकारिता विभागाध्यक्ष प्रोफेसर बुशरा सिद्दीकी ने तथा मंच संचालन फैकल्टी-असिस्टेंट प्रोफेसर एस.एस.डोगरा ने किया। वेबिनार का समापन, छठे सेमेस्टर विधार्थी आशीष ठाकरान के धन्यवाद ज्ञापन से हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here