एनआईटी के छात्र रजत अनंत ने ईजाद की सेमी-ऑटोमेटेड ट्रॉली, कोरोना की तीसरी लहर में होगी उपयोगी

767

हमीरपुर, 18 जुलाई। राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) के एक विद्यार्थी रजत अनंत ने ऑक्सीजन गैस सिलेंडरों को बदलने तथा अस्पताल के भीतर इन्हें आसानी से लाने और ले जाने के लिए एक सेमी-ऑटोमेटेड ट्रॉली तैयार की है। ‘आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है’ की कहावत को चरितार्थ करते हुए बनाई गई यह ट्रॉली आने वाले समय में बहुत ही उपयोगी साबित हो सकती है। विशेषकर, कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर एनआईटी के विद्यार्थी की इस इनोवेशन में कई संभावनाएं नजर आ रही हैं।
जिलाधीश देबश्वेता बनिक ने बताया कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान अस्पतालों में मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही थी और ऑक्सीजन सिलेंडरों को बार-बार बदलने तथा इन्हें अस्पताल की एक मंजिल से दूसरी मंजिल तक ले जाने में स्वास्थ्य कर्मचारियों को काफी मशक्कत करनी पड़ रही थी। एक सिलेंडर को बदलने में ही काफी ज्यादा वक्त लग रहा था तथा इस कार्य में 5-6 लोगों की सेवाएं लेनी पड़ रही थीं। अस्पताल प्रबंधन के लिए यह अपने आपमें एक बड़ी समस्या थी।
देबश्वेता बनिक ने बताया कि बाजार में भी इस काम के लिए कोई सेमी-ऑटोमेटेड ट्रॉली उपलब्ध नहीं थी। ऐसी परिस्थितियों में उन्होंने एनआईटी के इलैक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष डॉ. आरके जरयाल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष डॉ. राजेश कुमार के साथ उक्त समस्या के समाधान को लेकर चर्चा की तथा इंजीनियरिंग एक्सपर्ट्स की मदद से सेमी-ऑटोमेटेड ट्रॉली विकसित करने का आग्रह किया। इसके बाद एनआईटी के निदेशक डॉ. ललित अवस्थी की अनुमति से दोनों विभागों ने इस दिशा में तेजी से कार्य आरंभ किया। इलैक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के विद्यार्थी रजत अनंत ने इस प्रोजेक्ट पर कार्य आरंभ किया।
आखिर रजत अनंत की मेहनत रंग लाई और दो माह के भीतर ही उन्होंने अपने छोटे भाई मोहित अनंत की मदद से एक ऐसी सेमी-ऑटोमेटेड ट्रॉली का मॉडल तैयार करने में कामयाबी हासिल की। इसके माध्यम से केवल एक व्यक्ति ही ऑक्सीजन गैस सिलेंडरों को अस्पताल की एक मंजिल से दूसरी मंजिल तक बड़ी आसानी से ले जा सकता है तथा खाली सिलेंडरों को बहुत ही कम समय में बदल सकता है। पिछले महीने ही अपनी बीटैक की डिग्री पूरी करने वाला रजत अनंत बहुत ही प्रतिभाशाली विद्यार्थी है। पिछले वर्ष भी उसने इलैक्ट्रिकली चार्ज्ड वाहन से संबंधित एक प्रोटोटाइप तैयार किया था, जिसकी काफी सराहना हुई थी।
जिलाधीश ने बताया कि रजत अनंत के नए अविष्कार को मुख्यमंत्री स्टार्ट-अप योजना में शामिल करवाने के लिए भी उद्योग विभाग के माध्यम से आवेदन कर दिया गया है। एनआईटी प्रबंधन भी इसके पेटेंट से संबंधित सभी औपचारिकताएं पूरी कर रहा है। इस प्रोजेक्ट में एडीएम जितेंद्र सांजटा और डीएसपी रोहिन डोगरा ने भी रिसर्च टीम के साथ समन्वय स्थापित करके सराहनीय योगदान दिया।

पौधारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here