देश के प्रथम मतदाता 106 वर्षीय नेगी का सम्मान

334

रिकांगपिओ, 1 अक्टूबर। उपमंडलाधिकारी कल्पा डॉ. मेजर शशांक गुप्ता ने आज स्वतंत्र भारत के प्रथम मतदाता मास्टर श्याम सरन नेगी को अंतराष्ट्रीय वृद्धजन दिवस के अवसर पर उनके आवास पर भेंट की ओर उन्हें अंगवस्त्र व टोपी प्रदान कर सम्मानित किया। इस दौरान उपमंडलाधिकारी ने भारत निर्वाचन आयोग की ओर से मास्टर श्याम सरन नेगी को प्रशस्ति-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया।
उपमंडलाधिकारी कल्पा डॉ. मेजर शशांक गुप्ता ने कहा कि मास्टर श्याम सरन नेगी हम सभी के प्रेरणास्त्रोत है। 106 वर्ष की आयु के उपरांत भी आगामी चुनावों में मतदान के प्रति इनकी उत्सुकता इस बात का प्रमाण है कि लोकतंत्र के मजबूतीकरण में एक-एक मत की कितनी महत्ता है।
उन्होंने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग ने देश के सभी वृद्धजनों के प्रति देश की निर्वाचन प्रक्रिया में निरंतर योगदान के लिए अत्यधिक खुशी व्यक्त की है तथा कहा है कि वृद्धजनों ने लोकतांत्रिक प्रक्रिया में भाग लेकर भारतीय लोकतंत्र को सुदृढ़ करने के लिए अपने जोश एवं समर्पण से देश के युवाओं के लिए उदाहरण पेश किया है तथा हमारे देश के वरिष्ठ नागरिक सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक और देश में प्रौद्योगिकी के विकास के साक्षी है।
उन्होंने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग ने राष्ट्र के प्रति लोकतांत्रिक कर्तव्य को पूरा करने के लिए देश के समस्त वरिष्ठ नागरिकों की शक्ति, सामर्थ्य और दृढ़ निश्चय का अभिनंदन किया है। साथ ही वरिष्ठ नागरिकों (80 आयु वर्ग) और दिव्यांग मतदाताओं (40 प्रतिशत और अधिक निशक्तता) की मतदान में अधिकतम भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए व्हीलचेयर, रैंप, स्वयंसेवकों, आने-जाने के लिए निःशुल्क परिवहन, कतार रहित मतदान जैसी कई नई सुविधाओं की व्यवस्था की है। इसके अतिरिक्त फार्म 12घ भरकर घर बैठे मतदान करने की भी व्यवस्था की है।
इस दौरान हेल्प एज इंडिया ग्रुप के किन्नौर कार्यालय ने भी मास्टर श्याम सरन नेगी को अंगवस्त्र भेंट कर सममानित किया।
इस अवसर पर अधीक्षक निर्वाचन जी. आर. सक्सेना और नायब तहसीलदार इंद्र सिंह भी मौजूद थे।

युवाओं को प्रतिभा दिखाने के लिए मंच प्रदान करते हैं आयोजन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here