सांध्यबेला में खुशियों का सवेरा लाने की कवायद

638

विश्वविद्यालयों के पूर्व प्रोफेसर और डीन ने खोला नौनिहालों के लिए स्कूल
नकरौंदा में डा. बीपी नौटियाल ने की शैमरॉक स्कूल की शुरुआत
देहरादून के दूर कोने में स्थित नकरौंदा के बच्चों को अब अनुभव, ज्ञान और संस्कारों की पाठशाला मिल सकेगी। नकरौंदा में प्ले ग्रुप की चेन चला रहे शेमरॉक की एक शाखा खोली गयी है। इस शाखा के डायरेक्टर हैं डा. बीपी नौटियाल। डा. नौटियाल ने गढ़वाल विश्वविद्यालय में फारेस्टी डिपार्टमेंट की शुरूआत की थी। वो भरसार विवि के डीन भी रहे। डायरेक्टर हार्टिकल्चर भी रहे हैं।
बहुआयामी प्रतिभा के धनी डा. नौटियाल को विरासत में ज्ञान बांटने का काम मिला जिसे उनकी अगली पीढ़ी यानी बेटा और बहू आगे बढ़ा रहे हैं। उनके अनुसार बच्चों में यदि बचपन से ही अच्छे संस्कार होंगे तो वो एक अच्छा नागरिक बन पाएंगे। आज देश को अच्छे डाक्टर, इंजीनियर, आईएएस, आईपीएस, वैज्ञानिकों से अधिक अच्छे नागरिक की दरकार है। इस स्कूल के माध्यम से वह बच्चों के साथ अपना अनुभव बांट कर खुशियां बटोरने की कवायद कर रहे हैं।
[वरिष्‍ठ पत्रकार गुणानंद जखमोला की फेसबुक वॉल से साभार]

बद्री गाय ने पकड़ी जिद, मुझे ब्रांडेड घास चाहिए

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here