आंद्रे स्टेनिन इंटरनेशनल प्रदर्शनी के लिए तीन भारतीयों के छायाचित्रों का चयन

331

नई दिल्ली, 17 फरवरी। भारत के तीन फोटो जर्नलिस्ट शिबाशीष साहा, चंदन खन्ना और राजेंद्र मोहन पांडेय के छायाचित्रों का चयन आंद्रे स्टेनिन इंटरनेशनल प्रेस फोटो कांटेस्ट प्रदर्शनी की अलग अलग श्रेणियों में किया गया है। इन छायाचित्रों का चयन 54 देशों के लगभग 3 हजार प्रतिभागियों के बीच से किया गया है।
शिबाशीष साहा बंगाल से आते हैं और कई वैश्विक स्तर के फोटो कांटेस्ट जीत चुके हैं। उनके छाया चित्र एवरग्रीन स्माइल में बंगाली नववर्ष समारोह के बीच में एक बूढी औरत कैमरा देख शर्मा जाती है और मोर पंख से अपने चेहरे को छुपाने की कोशिश करती हैं। इस उम्र में भी ऐसी अदा दिल को छू जाती हैं।
इसी प्रकार चंदन खन्ना जो कि उत्तरी अमेरिका में न्यूज एजेंसी एएफपी में काम करते हैं और संयुक्त राज्य अमेरिका के फ्लोरिडा राज्य के मियामी शहर में रहते हैं, ने कोविड महामारी के बाद कैटी टोबीयास नाम की 67 वर्ष की महिला की तस्वीर को खींचा है।
वह अपने घर के आंगन को देख रही है। फ्लोरिडा के अन्ना मारिया द्वीप में रहने वाली इस महिला ने अपने घर के आंगन को कोविड महामारी के स्मारक के रूप में तब्दील कर दिया और वह होने वाली हर मौत को श्रद्धांजलि देते हुए एक फीता बांधा हैं।
भारत के एक अन्य फोटोग्राफर राजेंद्र मोहन पांडेय के छायाचित्र क्रैकिंग द आइस जो कि कश्मीर के डल झील के जमे पानी को तोड़ने कि कवायत को दिखाता हैं, भी चर्चा का विषय रही।


’विश्व के कई शहरों से होती हुई यह प्रदर्शनी 20 तक दिल्ली में प्रदर्शित की जाएगी’
नई दिल्ली अब उन अंतरराष्ट्रीय शहरों की सूची में शामिल हैं जहां वर्ष 2022 के आंद्रे स्टेनिन प्रतियोगिता को जीतने वालों के छायाचित्रों की प्रदर्शनी का आयोजन किया जा रहा है। यह अंतरराष्ट्रीय स्तर का Exhibition Tour दुनिया के कई शहरों से होता हुआ दिल्ली आया है।
भारत में नई दिल्ली से पहले स्टेनिन कांटेस्ट इंटरनेशनल रोड शो का प्रेटोरिया (दक्षिणी अफ्रीका) और शारजाह (संयुक्त अरब अमीरात) जैसे शहरों में आयोजित किया जा चुका है। विश्व के कई और देशों, में भी इस प्रदर्शनी को अंतरराष्ट्रीय साझेदारों के सहयोग से आयोजित करने की योजना बनाईं जा रही हैं जिसमें कि मध्य-पूर्व एशिया और दक्षिण-पूर्व एशिया भी शामिल हैं।
रूस की जानी मानी न्यूज एजेंसी स्पूतनिक द्वारा आयोजित इस प्रदर्शनी में भारत के कई युवा फोटो जर्नलिस्ट्स के उत्कृष्ट कार्यों को आल इंडिया फाइन आर्ट एंड क्राफ्ट सोसाइटी की आर्ट गैलरी में जनता के लिए प्रदर्शित किया गया है। प्रदर्शनी का उद्घाटन रूस के राजदूत डेनिस अलीपोव और अलेक्सांडर श्टोल जो कि इस वैश्विक स्तर की प्रदर्शनी के कार्यकारी निदेशक है की उपस्तिथि में हुआ।
रूस के राजदूत डेनिस अलीपोव ने कहा कि मुझे आपके बीच आकर बहुत खुशी का अनुभव हो रहा हैं। इस अवसर पर मुझे ज्यादा बोलने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यहां पर प्रदर्शित हर एक तस्वीर अपने-आप में एक लंबी दास्तान सुनाती सी लगती हैं। यह छायाचित्र छायाकार या फोटोग्राफर के अपने काम के प्रति समर्पण को दर्शाती हैं। यह तस्वीरें हमें रचनात्मक या क्रिएटिव होने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।
स्वर्गीय रूसी स्पेशल फोटो जर्नलिस्ट आंद्रे स्टेनिन जिन्होंने अपने काम को सर्वोच्च प्राथमिकता दी और उसके लिए अपनी जान भी गंवा दी, को श्रद्धांजलि देते हुए रूस के राजदूत डेनिस अलीपोव ने कहा कि उन्होंने फोटोग्राफी सर्वोच्च मानकों को आदर्श मानते हुए काम किया और दुर्भाग्यवश पूर्ण समर्पण के साथ काम करते हुए अपनी जान गंवा दी। उन्होंने आगे बताया कि उनको समर्पित इस प्रदर्शनी कि शुरुआत साल 2014 में हुई।


यह रूस के एकमात्र मंच है जहां से विश्वस्तरीय फोटो जर्नलिस्ट का चयन किया जाता है और वैश्विक स्तर पर उभर कर आने और नाम कमाने का मौका दिया जाता हैं। इस प्रदर्शनी में भारत के साथ-साथ दुनिया भर के देशों से युवा फोटो जर्नलिस्ट हिस्सा लेते हैं।
रूस के राजदूत ने आगे कहा कि इस प्रदर्शनी में भारत के अलावा कई और देशों के युवा फोटो जर्नलिस्ट के कामों को प्रदर्शित किया गया है और हम उनकी रचनात्मक शैली के द्वारा वह देख पा रहे हैं जो शायद जो शायद हम आम जिंदगी में न देख पाएं। ये तस्वीरें हमें अंतर्मन की गहराइयों में ले जाती हैं और हमें जिदगी की चुनौतियों का सामना करने कि प्रेरणा भी देती हैं, जो कि इस समय की मांग हैं।
इस प्रदर्शनी में विश्व भर के युवा छायाकारों ने अपने छायाचित्रों के द्वारा विभिन्न रस जैसे खूबसूरती, प्यार, नफरत, आपदा, मजबूरी, चुनौती आदि को दिखा कर अपनी सोच के साथ जोड़ने की कोशिश की है।
भारतीय फोटो जर्नलिस्ट की सराहना करते हुए उन्होंने कहा यहां के छायाकारों ने 2022 में आयोजित इस प्रतियोगिता में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। ’रूस के राजदूत ने विशेष तौर पर भारत के तीन फोटो जर्नलिस्ट शिबाशीष साहा, चंदन खन्ना और राजेंद्र मोहन पांडेय के छायाचित्रों की सराहना की’।
साल 2023 के लिए 22 दिसंबर 2022 जो कि आंद्रे स्टेनिन का जन्मदिवस भी हैं से प्रतियोगिता प्रविष्टियां आमंत्रित की गई हैं। जो भी प्रतियोगी इस प्रतियोगिता में भाग लेना चाहते है, वो इस प्रतियोगिता की वेबसाइट रूसी में (http://stenincontest.ru ), अंग्रेजी में (http://stenincontest.com) और चीनी में (https://cn.stenincontest.com) फरवरी 28, 2023 तक रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।


’आंद्रे स्टेनिन इंटरनेशनल प्रेस फोटो कांटेस्ट के बारे में’
आंद्रे स्टेनिन इंटरनेशनल प्रेस फोटो कांटेस्ट का आयोजन रोसिया सेगोदन्या मीडिया ग्रुप द्वारा रुस्सियन कमीशन फॉर UNESCO तत्वाधान में आयोजित कराया जाता है। इस प्रतियोगिता का उद्देश्य युवा फोटोग्राफर्स को प्रोत्साहित करना हैं और इस क्षेत्र में आने वाली चुनौतियों पर प्रकाश डालना है। यह प्रतियोगिता युवा फोटोग्राफरों के लिए एक मंच है, जहां प्रतिभाशाली युवा फोटोग्राफर अपनी खींची गई तस्वीरों के द्वारा लोगों का ध्यान आकर्षित करने की कोशिश करते हैं।
इस प्रतियोगिता के जनरल इनफार्मेशन पार्टनर्स VGTRK (आल रुस्सियन स्टेट टेलीविजन एंड रेडियो ब्राडकास्टिंग कंपनी) और STOMRIM ऑनलाइन प्लेटफार्म (रूस), द रशियन कल्चर रशियन स्टेट TV चैनल (रूस), द मास्को 24 TV चैनल (रूस) हैं।
इस प्रतियोगिता के अंतरराष्ट्रीय मीडिया पार्टनर स्पूतनिक न्यूज एजेंसी और रेडियो इंटरनेशनल, RT इंटरनेशनल, इंडिपेंडेंट मीडिया होल्डिंग (साउथ अफ्रीका), ANA न्यूज एजेंसी (साउथ अफ्रीका), शंघाई यूनाइटेड मीडिया ग्रुप (SUMG) (चीन), चाइना डेली वेबसाइट (चीन), द पेपर वेबसाइट (China) और अल मायादीन मीडिया नेटवर्क (लेबनान) हैं।
इस प्रतियोगिता के इंडस्ट्री पार्टनर यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट ऑफ रूस (रूस), द यंग जर्नलिस्ट (रूस), द रशियन फोटो फोटो पोर्टल (रूस) और Photo-study.ru हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here