बादामः स्वस्थ और पोषक तत्वों से भरपूर नाश्ता

1302
  • विशेषज्ञों ने उन चुनौतियों पर विचार-विमर्श किया, जिन्हें भारतीयों को महामारी के बाद की दुनिया में इष्टतम पारिवारिक स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए पार करने की आवश्यकता है
  • पैनलिस्टों में बॉलीवुड अभिनेत्री सोहा अली खान, मैक्स हेल्थकेयर, दिल्ली की रीजनल हेड-डायटेटिक्स ऋतिका समद्दार, न्यूट्रीशन एंड वेलनेस कंसल्टेंट शीला कृष्णास्वामी और आमंड बोर्ड ऑफ कैलिफोर्निया की वीपी- ग्लोबल मार्केटिंग डेवलपमेंट एमिली फ्लीशमैन भी

भारत, 23 जुलाई। आमंड बोर्ड ऑफ कैलिफोर्निया ने आज ‘महामारी के बाद की दुनिया में तेजी से बदलती जीवन शैली के बीच इष्टतम पारिवारिक स्वास्थ्य सुनिश्चित करने में चुनौतियां’ विषय पर एक वर्चुअल परिचर्चा आयोजित की, जिसमें भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका की प्रतिष्ठित हस्तियों ने भाग लिया। इस परिचर्चा में वक्ताओं ने गंभीर आहारीय और जीवन शैली मध्यवर्तन की आवश्यकता पर बल दिया। पैनल में बॉलीवुड अभिनेता और लेखक सोहा अली खान, मैक्स हेल्थकेयर- दिल्ली की क्षेत्रीय प्रमुख – डायटेटिक्स ऋतिका समद्दार, पोषण और कल्याण सलाहकार शीला कृष्णास्वामी और आमंड बोर्ड ऑफ कैलिफोर्निया की वीपी- ग्लोबल मार्केट डेवलपमेंट एमिली फलीशमैन शामिल थे। पैनल का संचालन आरजे शेजी ने किया।
जैसे-जैसे हमारे आसपास की दुनिया बदलती है और तेजी से विकसित होती है और भविष्य के लिए अनिश्चितताएं बढ़ती जा रही हैं- अनेक भारतीयों के लिए उचित पारिवारिक स्वास्थ्य सुनिश्चित करने की आवश्यकता एक प्रमुख फोकस क्षेत्र के रूप में उभर रही है। यह सब कुछ ऐसा है जो हर व्यक्ति के नियंत्रण में है। इस धारणा पर वर्षों से चर्चा की जाती रही है कि पौष्टिक और अच्छी तरह से संतुलित आहार में अच्छे स्वास्थ्य का समर्थन करने की क्षमता है। क्या खाएं और क्या नहीं, यह नियमित रूप से सुर्खियां बटोरता है। ऐसा इसलिए क्योंकि आम तौर पर उपभोक्ता और विशेष रूप से माताएं वैज्ञानिक सलाह और प्रचलनों को अपनी रसोई संबंधी मान्यताओं, पारिवारिक परंपराओं और व्यंजनों और स्थानीय खाद्य उपलब्धता के साथ संतुलित करने का प्रयास करती हैं।
जबकि देश भर के कई क्षेत्रों में लोग महामारी की दूसरी लहर के बाद की परिस्थितियों से जूझ रहे हैं, कई भारतीयों को अब महामारी के बाद की दुनिया में समायोजित करने के लिए अपने जीवनशैली को नए सिरे से व्यवस्थित करने की आवश्यकता है। इसे संबोधित करते हुए, चर्चा ने स्वास्थ्य लाभ के रास्ते के विभिन्न पहलुओं और परिवार के प्रत्येक सदस्य के स्वास्थ्य को चिंता का शीर्ष विषय बनाने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला। चर्चा के दौरान पैनलिस्टों ने अपने निजी जीवन के उदाहरण और अनुभव साझा किए और भारत भर के परिवारों से उनके स्वास्थ्य और जीवन शैली की गुणवत्ता के निर्माण में अधिक निवेश करने का आग्रह किया।
परिवार के हर सदस्य की प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए बेहतर पोषण सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर जोर देते हुए और जीवन शैली जनित बीमारियों से उत्पन्न होने वाले जोखिमों को कम करते हुए पैनल ने पोषण को प्राथमिकता देने और बादाम जैसे स्वस्थ खाद्य पदार्थों को आहार में शामिल करने की आवश्यकता पर जोर दिया। पैनलिस्टों ने स्वास्थ्य को अधिक समग्र नजरिए से देखने की जरूरत पर भी विस्तार से बात की और एक बड़े लक्ष्य को हासिल करने के लिए एक साथ आनेवाले हर काम को अलग से देखा। ऐसा करने के लिए पैनलिस्टों ने चर्चा की कि तनाव को नियंत्रित करने के लिए गंभीर प्रयास करने के साथ-साथ नियमित व्यायाम और दिमागी स्नैकिंग के साथ एक स्वस्थ आहार का सेवन करने की अत्यधिक आवश्यकता है। लंबे समय में इनमें से प्रत्येक तत्व संयुक्त परिवार के हर सदस्य के लिए बेहतर स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करेगा।

चर्चा के दौरान लोकप्रिय बॉलीवुड अभिनेत्री सोहा अली खान ने कहा कि, “आज की दुनिया में मां बनना आसान नहीं है। ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो हमें चिंतित और परेशान करती हैं और कई बार हम निजी तौर पर जवाबदेह भी महसूस करते हैं। मेरे लिए किसी भी मां की तरह यह सुनिश्चित करना कि मेरा परिवार स्वस्थ और सुरक्षित है, एक निरंतर तनाव है। लेकिन अगर पिछले डेढ़ साल में मैंने कोई एक चीज सीखी है तो वह यह है कि बहुत सी चीजें मेरे नियंत्रण में नहीं हो सकती हैं, पर मेरे परिवार की भलाई निश्चित तौर पर मेरे नियंत्रण में है। अच्छा स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए अपने परिवार की योजना के हिस्से के रूप में हम रोजाना मुट्ठी भर बादाम खाते हैं। बादाम एक स्वस्थ और पोषक तत्वों से भरपूर नाश्ता हैं। इसे कच्चा खाया जा सकता है या फिर ओट्स, स्मूदी और शेक में मिलाया जा सकता है। उन्हें नियमित रूप से खाने से मेरी और मेरे परिवार का प्रतिरक्षण तंत्र मजबूत करने में मदद मिलती है। उनमें तांबा, जस्ता, लोहा और विटामिन ई होता है। इनमें हरेक पोषक तत्व हैं जो प्रतिरक्षण प्रणाली के विकास, रख-रखाव और सामान्य कामकाज में योगदान देते हैं।”
मैक्स हेल्थकेयर- दिल्ली की क्षेत्रीय प्रमुख – डायटेटिक्स, ऋतिका समद्दर ने कहा कि, “हाल ही में भारत में कई घर किसी न किसी तरह से कोविड-19 वायरस के संपर्क में आए हैं। जैसे-जैसे लोग ठीक होते गए हैं, परिवार के स्वास्थ्य पर ध्यान देना पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हो गया है। हालांकि प्रतिरक्षा पर ध्यान देना जारी है, लेकिन मोटापा, उच्च रक्त शर्करा, उच्च रक्तचाप या दिल की विफलता जैसी जीवनशैली की बीमारियों के बढ़ते बोझ पर विचार करना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। इसे वायरस की जटिलताओं के बाद पहचाना गया है। इसलिए परिवारों को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि वे अपने आहार पर थोड़ा ध्यान दें। अपने आहार में पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ, जैसे कि बादाम, फल और हरी पत्तेदार सब्जियां शामिल करें। बादाम विशेष रूप से एक बढि़या विकल्प है, क्योंकि वे हर दिन खाने के लिए सबसे आसान खाद्य पदार्थों में से एक हैं। परिवार के सदस्य सुबह एक मुट्ठी भिगोकर खा सकते हैं। उन्हें छोटे भागों में विभाजित कर सकते हैं और दिन भर खा सकते हैं, या उन्हें भारतीय स्वाद के साथ अलग-अलग व्यंजन बना सकते हैं। नियमित रूप से बादाम खाने का दूसरा फायदा यह है कि वे किसी व्यक्ति के रक्त शर्करा (ब्लड शुगर) के स्तर को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में मदद कर सकते हैं। कई लोगों के लिए, जो कोविड-19 से ठीक हो रहे हैं, रक्त शर्करा अक्सर अत्यधिक बढ़ा हुआ होता है। हालांकि यह ज्ञात नहीं है कि बादाम कोविड-19 के कारण बढ़े हुए रक्त शर्करा के स्तर में सुधार करने में मदद करते हैं। अनुसंधानों से पता चलता करता है कि बादाम के दैनिक सेवन से स्वस्थ रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने और टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों में हृदय संबंधी मार्करों में सुधार करने में मदद मिल सकती है।”
न्यूट्रिशन और वेलनेस कंसल्टेंट, शीला कृष्णास्वामी ने कहा कि, “जब हम अपने आस-पास की दुनिया को देखते हैं तो पाते हैं कि बहुत कुछ बदल गया है और इसके साथ ही हममें से कई लोग भी बदल गए हैं। इस कठिन समय से गुजरने के बाद अतीत से सीखना महत्वपूर्ण है, और पुरानी आदतों को नई और बेहतर आदतों से बदलकर एक अच्छे आरोग्य का रास्ता अपनाना है। इसके लिए परिवारों को मेरा सबसे बड़ा सुझाव है कि घर की रसोई की पूरी तरह से सफाई करें और अस्वास्थ्यकर और कैलोरी से भरपूर खाद्य पदार्थों को बादाम या ताजे फलों जैसे पौष्टिक विकल्पों से बदलें। स्नैकिंग पैटर्न में यह बदलाव परिवार के सदस्यों के बीच बेहतर हृदय स्वास्थ्य में सहायता कर सकता है। वास्तव में एक अध्ययन के अनुसार जो प्रतिभागी बादाम के साथ विशिष्ट स्नैक्स की जगह ले रहे थे, उन्होंने मानसिक तनाव के दौरान हृदय गति परिवर्तनशीलता के बेहतर उपायों को देखा, जो हृदय के स्वास्थ्य और कार्य का एक प्रमुख संकेतक है।”
आमंड बोर्ड ऑफ कैलिफोर्निया की वीपी – ग्लोबल मार्केटिंग डेवलपमेंट, एमिली फ्लीशमैन ने कहा कि, “महामारी के बाद की दुनिया में अच्छा पोषण और स्वस्थ जीवन शैली महत्वपूर्ण है। अब कई वर्षों से और महामारी के दौरान भी हम दुनिया भर के परिवारों और विशेष रूप से भारत में पौष्टिक और संतुलित भोजन खाने और नियमित व्यायाम के महत्व के बारे में बेहतर जागरूकता पैदा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। स्वस्थ आहार पैटर्न में बादाम को शामिल करने के गुणों को समझने के लिए एबीसी वैज्ञानिक अनुसंधान में निवेश करके इसे प्रोत्साहित करना जारी रखता है। जैसा कि हम सभी इस बदलती दुनिया में फिट होने के लिए अपने जीवन को अनुकूलित और संशोधित करना जारी रखते हैं, अपने और परिवार के आहार और जीवनशैली का पुनर्मूल्यांकन करना और उन परिवर्तनों को अपनाना महत्वपूर्ण है जो बेहतर भविष्य को सक्षम कर सकते हैं।”
भारत भर के परिवारों के लिए इन छोटे लेकिन महत्वपूर्ण आहार और जीवनशैली मध्यवर्तन को अपने जीवन में बनाना सर्वोपरि है, क्योंकि इन परिवर्तनों के अनगिनत दीर्घकालिक लाभ हैं। ऐसा करने का एक आसान तरीका आहार में मुट्ठी भर बादाम शामिल करना है। चाहे वह हृदय के स्वास्थ्य को मजबूत करना हो, स्वस्थ रक्त शर्करा के स्तर और किसी व्यक्ति के वजन का समर्थन करने में मदद करना हो, या त्वचा के स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालना हो – बादाम का दैनिक सेवन समग्र पारिवारिक स्वास्थ्य को सकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। वास्तव में बादाम की दैनिक खुराक सहित एक स्वस्थ और टिकाऊ जीवन शैली भी मजबूत प्रतिरक्षण प्रणाली के निर्माण में सहायता कर सकती है जो भविष्य में अन्य बीमारियों को रोकने में मदद कर सकती है।

Experts deliberate on the challenges Indians need to surmount to achieve optimal family health in a post pandemic world

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here