हरिओम महाराज के सानिध्य में भव्य महाआरती, सैकड़ों भक्त हुए शामिल

963

धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में 22 अक्टूबर से होगा 11 दिवसीय लक्षचंडी महायज्ञ
महायज्ञ में 501 कुंड बनेंगे और एक हजार से अधिक ब्राह्मण करेंगे यज्ञ
गुरुग्राम, 5 अक्टूबर। मां मोक्षदायिनी गंगा धाम ट्रस्ट व यज्ञ सम्राट श्री श्री 1008 हरिओम जी महाराज के द्वारा परशुराम वाटिका में भव्य महाआरती करवाई गई। जिसमें गुड़गांव के सैकड़ों भक्तों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया।
महाराज ने कहा कि धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में 22 अक्टूबर से 11 दिवसीय लक्षचंडी महायज्ञ का आयोजन होगा। यदि आप हिंदू हैं तो इस यज्ञ में अवश्य सम्मलित हों और इसका बड़े स्तर पर प्रचार-प्रसार करे। उन्होंने गुड़गांव के आसपास के जिलों के सभी भक्तों से भी अपील की कि इसमें तन-मन-धन से जुड़े। उन्होंने कहा कि हमें विश्व कल्याण के लिए सबको साथ लेकर पर्यावरण को शुद्ध करना है। इसलिए अपनी आहुति किसी न किसी रूप में देने के लिए कुरुक्षेत्र पहुंचे।
महाराज ने कहा कि लोग यज्ञ की परंपरा को अब भूल रहे हैं। इस महायज्ञ को करने का यही उद्देश्य है कि लोग अपनी संस्कृति और परंपराओं को याद रखें। यज्ञ पर्यावरण को शुद्ध करने के साथ-साथ हमारे तन व मन की भी शुद्धि करता है। उन्होंने कहा कि एक सर्वे में पाया गया कि कोरोना काल में सबसे ज्यादा यज्ञ हरियाणा में हुए। उन्होंने कहा कि 22 अक्टूबर से एक नवंबर तक थीम पार्क में लक्षचंडी यज्ञ होगा। सुबह आठ से दोपहर 12 बजे तक यज्ञ होगा, इसके बाद दोपहर दो से सायं पांच बजे तक हरि चर्चा होगी और सायं को सात बजे महाआरती होगी।
हरि ओम महाराज ने बताया कि पांच स्थल पर यज्ञ अनंत फलकारी हैं। इनमें से ब्रह्मा जी द्वारा बनाई गई उत्तर वेदी को सर्वोत्तम यज्ञ के लिए माना गया है। कहीं पर थल, कहीं पर स्थल तो कहीं के जल में मुक्ति होती है। मगर कुरुक्षेत्र के जल, थल और अंतरिक्ष तीनों ही जगहों में मुक्ति का मार्ग है। उन्होंने कहा कि जिस परंपरा को हम भूलते जा रहे हैं युवाओं को उन्हें याद दिलाने की जरूरत है। सनातन धर्म की हर चीज पर ध्यान देने की जरूरत है। और साथ में कहा कि इससे पहले यह महायज्ञ त्रेता युग में दशरथ ने किया था। इसके बाद इस तरह के जितने भी यज्ञ हुए वह सफल नहीं हुए या हुए ही नहीं। उन्होंने कहा कि यह यज्ञ सर्वसमाज और सनातन धर्म को बचाने और बढ़ाने के लिए बहुत जरूरी है। धर्मनगरी कुरुक्षेत्र के नगर व गांवों में हररोज प्रचार माध्यमों से यज्ञ में शामिल होने के लिए भक्तों का उत्साह बढ़ाया जा रहा है। इस महायज्ञ का आरंभ 22 अक्टूबर से होगा और एक नवंबर तक चलेगा। थीम पार्क में महायज्ञ की तैयारियां चल रही हैं। उन्होंने कहा कि भगवान ब्रह्मा के मन में सृष्टि की रचना का विचार आया तो उन्होंने सर्वप्रथम यज्ञ किया, तब सृष्टि का आरंभ हुआ। उन्होंने बताया कि महायज्ञ में पुण्य करने से फल कई गुना बढ़ जाता है। गुरुग्राम की परशुराम वाटिका में हरि ओम महाराज ने भव्य महाआरती करवाई जिसमें सैकड़ों भक्तों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। इसमें राम निवास वत्स, रंजन शर्मा, योगेंद्र कुमार सारस्वत, दक्ष सारस्वत, भागीरथ भारद्वाज, डीपी शर्मा, बीएम कौशिक, राजकिशन कौशिक, अनिल अत्री, राजेश दुआ, योगेश, रमाकांत उपाध्याय, धर्मदेव, जतिन शर्मा, सुरेंद्र भारद्वाज, राकेश सरीन, रूपेंद्र अग्रवाल, श्रवण कुमार, लक्ष्मी नारायण शर्मा, रणधीर राजा, राकेश कुमार, रंजन कुमार सिंह, ओमेंद्र द्विवेदी, मनीष सिंह, मनोज अग्रवाल, भाजपा प्रदेश संयोजक विजेता मलिक, नूतन शर्मा, पूनम अग्रवाल, अंबिका प्रसाद, नवीन शर्मा, हितेश शर्मा, काव्या शर्मा, हिमांशु सरीन और योगेंद्र शर्मा भी शामिल हुए।

71 बेटियों को सम्मानित करेगी भाजपा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here