स्वास्थ्य संस्थानों में चिकित्सा ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता

1456

शिमला, 8 मई। प्रदेश के कोविड-19 स्वास्थ्य संस्थानों में चिकित्सा ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है और किसी भी स्वास्थ्य संस्थान में इसकी कोई कमी नहीं है। प्रदेश के सभी स्वास्थ्य संस्थानों में आवश्यकतानुसार कोविड मरीजों को ऑक्सीजन उपलब्ध करवाई जा रही है।

राज्य में चिकित्सा ऑक्सीजन की प्रतिदिन उपलब्धता 73.86 मीट्रिक टन है जबकि प्रतिदिन खपत 29.63 मीट्रिक टन है। चिकित्सा ऑक्सीजन के उत्पादन और खपत के आधार पर प्रदेश में चिकित्सा ऑक्सीजन सरप्लस है जिसकी मात्रा 44.23 मीट्रिक टन प्रतिदिन है। गौरतलब है कि गत वर्ष राज्य में चिकित्सा ऑक्सीजन का उत्पादन प्रतिदिन लगभग 29 मीट्रिक टन तक था जो वर्तमान में बढ़कर 73.81 मीट्रिक टन प्रतिदिन हो गया है।

राज्य के विभिन्न जिलों में चिकित्सा ऑक्सीजन की उपलब्धता में कांगड़ा जिला सबसे अग्रणी है और यहां 29.08 मीट्रिक टन चिकित्सा ऑक्सीजन प्रतिदिन उपलब्ध है। इसके अलावा जिला बिलासपुर में 0.34 मीट्रिक टन, चंबा में 1.02 मीट्रिक टन, हमीरपुर में 3.29 मीट्रिक टन, किन्नौर में 0.59 मीट्रिक टन, कुल्लू में 2.95 मीट्रिक टन, लाहौल-स्पीति में 0.83 मीट्रिक टन, मंडी में 10.65 मीट्रिक टन, शिमला में 5.17 मीट्रिक टन, सिरमौर में 5.91 मीट्रिक प्रतिदिन, सोलन में 11.58 मीट्रिक टन जबकि ऊना में 2.47 मीट्रिक टन प्रतिदिन ऑक्सीजन उपलबध है।

प्रदेश के 6 मेडिकल कालेजों में ऑक्सीजन प्लांट कार्यशील हैं जिनमें निरन्तर ऑक्सीजन उत्पादन हो रहा हैं। इनमें आईजीएमसी शिमला, मेडिकल कालेज टांडा, मेडिकल कालेज नेरचैक, जोनल अस्पताल धर्मशाला, दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल शिमला व निजी क्षेत्र में चल रहा मेडिकल कालेज एमएमयू कुमारहट्टी शामिल हैं। इसके अतिरिक्त मेडिकल कालेज हमीरपुर, चंबा और नाहन में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने का कार्य प्रगति पर है, जिनमें ऑक्सीजन उत्पादन अगामी एक या दो सप्ताह में शुरू हो जाएगा।

भारत सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश के लिए स्वीकृत किए गए 6 नए ऑक्सीजन प्लांटों को स्थापित करने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई हैं। इन्हें डीआरडीओ द्वारा स्थापित किया जाएगा। ये ऑक्सीजन प्लांट नागरिक अस्पताल पालमपुर, जोनल अस्पताल मंडी, जिला शिमला के खनेरी व रोहडू नागरिक अस्पतालों, मेडिकल कालेज नाहन और क्षेत्रीय अस्पताल सोलन में स्थापित होंगे। ये प्लांट अगामी एक माह में बनकर तैयार हो जाएंगे जिनके शुरू होने से प्रति प्लांट 1000 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन का उत्पादन होगा। चिकित्सा ऑक्सीजन की मांग और कमी पर नजर रखने के लिए राज्य सरकार द्वारा एक निगरानी समिति गठित की गई है।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक डा. निपुण जिंदल ने कहा कि राज्य सरकार विभिन्न स्वास्थ्य संस्थानों में चिकित्सा ऑक्सीजन की उपलब्धता व मांग की निरन्तर निगरानी कर रही है ताकि किसी भी कोविड मरीज को आवश्यकता होने पर तुरंत ऑक्सीजन उपलब्ध करवाई जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here