चंबा वासियों के लिए ईश्वर से कम नहीं है डॉ. राजीव मरवाह

683
हृदय रोग विशेषज्ञ (गोल्ड मेडलिस्ट) डॉ. राजीव मरवाह शिविर में मरीज को देखते हुए। (file photo)

चंबा, 29 मई। हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले के निवासियों के लिए ईश्वर से कम नहीं है हार्ट स्पेशलिस्ट (गोल्ड मेडलिस्ट) डॉ. राजीव मरवाह। चंबा से संबंध रखने वाले डॉ. राजीव मरवाह आईजीएमसी शिमला में कार्डियोलॉजिस्ट विभाग में एमडी के पद पर तैनात है। आईजीएमसी शिमला में तैनात होने के बाद भी चंबा जिले से आने वाले हरेक मरीज का वे बेहद ध्यान रखते हैं और उनको प्राथमिकता देते हुए उनकी हरसंभव चिकित्सकीय मदद करते हैं। मरीज उनके पास से पूरी तरह से संतुष्ट होकर वापस लौटता है। इलाज के दौरान डॉ. मरवाह गरीब हो या अमीर किसी को भेदभाव नहीं करते। डॉ. मरवाह गरीब मरीजों को निःशुल्क दवाइयां आदि भी उपलब्ध करवाते हैं। वे गरीब मरीजों को हर तरह से मदद करने में अहम भूमिका निभाते हैं।

शिमला में कार्यरत होने के बाद भी वे चंबा जिले से अपने को जोड़े हुए हैं। वे हर साल यहां आयोजित होने वाले चंबा मिलेनियम प्यूपल्स सोसाइटी के इस निःशुल्क हृदय जांच शिविर में भाग लेने के लिए आते हैं। इस शिविर का आयोजन पिछले पांच साल से मेडिकल कॉलेज जिला चंबा मुख्यालय में किया जा रहा है। इसका आयोजन चंबा जिले के साथ लगती ग्राम पंचायत मंगला के निवासी एवं संस्था के चेयरमैन उपेंद्र सिंह मनकोटिया करवाते हैं। मनकोटिया सचिवालय हिमाचल प्रदेश शिमला में वरिष्ठ अधीक्षक के पद पर कार्यरत हैं। दुर्भाग्यवश कोरोना के चलते 2020 में इस शिविर का आयोजन नहीं हो पाया था। मनकोटिया इस शिविर को अपनी धर्मपत्नी रीना ठाकुर की यादगार में आयोजित करवाते हैं। रीना ठाकुर की हृदय संबंधी बीमारी से मृत्यु हुई थी। इस यादगार शिविर में हर साल डॉ. राजीव मरवाह भी भाग लेते हैं। इस दौरान डॉ. मरवाह बहुत ही निष्ठापूर्वक, ईमानदारी और निष्पक्षता से काम करते हुए अधिक से अधिक संख्या में मरीजों की जांच करते हैं और उनको संतुष्ट करके ही वापस भेजते हैं। अपने व्यवहार के कारण हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. मरवाह ने यहां के निवासियों के दिलों में अपनी विशेष जगह बना ली है। डॉ. मरवाह गंभीर मरीजों को शिमला बुला लेते हैं। शिमला में ऐसे मरीजों के कई प्रकार के टेस्ट करवाए जाते हैं और जरूरी होने पर सर्जरी कर स्टंट भी डाले जाते हैं। इस शिविर में पूरे जिले के दूरदराज क्षेत्रों के हजारों लोग आते हैं। जिनके हजारों की कीमत वाले टेस्ट निःशुल्क किए जाते हैं और दवाइयां भी निःशुल्क दी जाती हैं। आज तक इस शिविर में लगभग पांच हजार मरीज अपनी जांच करवा चुके हैं।

’हम न हारे थे न हारे हैं ना हारेंगे कभी’….

बेहद सरल, नेक और नम्र स्वभाव के हृदय रोग विशेषज्ञ (गोल्ड मेडलिस्ट) डॉ. राजीव मरवाह युवाओं को हृदय रोग से बचने के टिप्स देते हैं। वे उन्हें रोज सैर करने एवं आसपास जाने के लिए वाहनों की जगह पैदल जाने की सलाह देते हैं। डॉ. मरवाह बच्चों को मोबाइल से दूर रहने और खेलकूद आदि के लिए प्रोत्साहित करते हैं। डॉ. मरवाह लोगों से चम्याली धाम का सेवन कम-कम करने की सलाह देते हैं। धाम खाने के बाद कम से कम बीस मिनट सैर करने की सलाह देते हैं। मालूम हो कि चम्याली धाम बहुत ही भारी होती हैं, इसकी विशेष डिश मदरा होती है, जोकि बेहद तरल और आयली होती है। मदरा को अधिक खाने से हृदय संबंधी रोग होने का खतरा बढ़ जाता हैं। इसलिए डॉ. मरवाह उसको अपने शरीर की क्षमतानुसार खाने की सलाह देते हैं। डॉ. मरवाह का कहना है कि इस प्रकार के नियम अपनाने से भविष्य में हृदय संबंधित रोगों से निजात मिलती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here