बल्‍ह हवाई अड्डे के विरोध में खेतों में काम के साथ प्रदर्शन

643

मंडी, 10 जून। जिला मंडी के बल्ह में प्रस्तावित हवाई अड्डे के विरोध में किसानों ने अपने टमाटर के खेतों में कार्य करते हुए विरोध प्रदर्शन किया। वहीं पर मांग की है कि सरकार प्रस्तावित लिडार सर्वे को दूसरी जगह गैर उपजाऊ जमीन में करवाया जाए। बल्ह बचाओ किसान संघर्ष समिति के अध्यक्ष जोगिन्दर वालिया ने कहा कि बल्ह के किसानों की छाती पर मूंग दलने का कार्य बंद करो। उड़नखटोले में उड़ने वाले मुख्यमंत्री ने बल्ह के किसानों को उजाड़ने का जो सपना देखा है वह कदापि सहन नहीं किया जाएगा। अब भाजपा सरकार के उजड़ने का समय नजदीक आ गया है।
हिमाचल सरकार वाप्कोस कंपनी द्वारा जो लिडार सर्वे करवाया जा रहा है वो सरासर बेमानी है, क्‍योंकि ओएलएस ने 2018 में पहले सर्वे किया है उसके मुताबिक यहां केवल घरेलु उड़ान के लिए एयरपोर्ट ही बन पाएगा अन्यथा बंदली की पहाड़ियों को आधा किलोमीटर काटना होगा जो संभव नहीं है। समिति के सचिव नंद लाल वर्मा ने कहा कि प्रस्तावित हवाई अड्डे की वजह से 8 गांव के अधिकतर किसान भूमिहीन हो जाएंगे। यहां 2000 परिवार जिनकी आबादी 12000 से अधिक है नकदी फसलें उगाकर अपना परिवार पाल रहे हैं, वे भी पूरी तरह से रोजगार विहीन एवं पूरी तरह विस्थापित हो जाएंगे। इतनी घनी आबादी जो की नकदी फसलें जिसमें टमाटर, गोभी, मूली, पालक व अन्य फसलें ऊगा कर अपनी आजीविका कमा रहे हैं। उन्हें यहां से विस्थापित कर कहां पुनर्स्‍थापित किया जाएगा,इसके बारे में सरकार के पास कोई भी वैकल्पिक योजना नहीं है।

भ्रष्‍टाचार में डूबी रही थी पूर्व की वीरभद्र सरकार: गोपालदास वर्मा


समिति के उपप्रधान प्रेम चौधरी व श्याम लाल चौधरी ने कहा कि प्रस्तावित हवाई क्षेत्र में जमीन के सर्कल रेट इतने कम है कि जमीन कौडिय़ों के भाव जाएगी, दूसरी तरफ हिमाचल सरकार सर्कल रेट के अनुसार ही मुआवजा देने की बात कर रही है। जबकि बल्ह के किसान 3-4 लाख प्रति बीघा नकदी फसलों से प्रति वर्ष कमा रहा है। वहीं पर समिति के उपप्रधान गुलाम रसूल ने कहा कि अगर किसानों को बेदखल किया जाता है तो इस रेट में हिमाचल में कहीं भी उपजाऊ जमीन नहीं मिलेगी। ऐसे में किसान सहमे हुए है और उन्हें उजडऩे का डर सत्ता रहा है। आज किसानों ने अपने खेतों में काम करते हुए सरकार से मांग की है कि प्रस्तावित हवाई अड्डे को किसी दूसरी जगह बनाकर इस क्षेत्र की रक्षा की जाए। बल्ह बचाओ किसान संघर्ष समिति के किसानों की अध्यक्षता में गांव-कुम्मी में भवानी सिंह, गांव-जरलू में हरी राम चौधरी, गांव टांवां में प्रेम दास चौधरी, श्याम लाल चौधरी, दिले राम, अमर सिंह वालिया, गांव स्यांह में नंद लाल वर्मा, जय राम सैनी, गांव डीनक में हलीम अंसारी, गुलाम रसूल, दुगराईं गांव में रोशन लाल, कनैड से श्याम लाल, ढाबन गांव में किशन सैनी, और भौर गांव में जोगिंदर वालिया की अगुवाई में विरोध प्रदर्शन आयोजित किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here